Personality
श्री शिवराज सिंह चौहान शिवराज सिंह चौहान का जीवन परिचय भारतीय जनता पार्टी के सदस्य और मध्य प्रदेश के वर्तमान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का जन्म 5 मार्च, 1959 को सिहोर, मध्य-प्रदेश में हुआ था. शिवराज सिंह ने बरकतुल्लाह यूनिवर्सिटी, भोपाल से गोल्ड मेडल के साथ दर्शनशास्त्र में स्नातकोत्तर की उपाधि ग्रहण की. शिवराज सिंह चौहान के परिवार में उनकी पत्नी साधना और दो पुत्र हैं. ..............View more..
शोपियां मामलाः मेजर आदित्य के खिलाफ FIR पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक
Bookmark and Share

नई दिल्ली: शोपियां फायरिंग मामले में मेजर आदित्य को बड़ी राहत देते हुए सुप्रीम कोर्ट ने उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कराए जाने पर रोक लगा दी है। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र के अलावा राज्य सरकार को नोटिस जारी कर दो हफ्ते में जवाब मांगा है। सर्वोच्च न्यायालय ने यह आदेश मेजर आदित्य के पिता द्वारा दायर याचिका पर सुनवाई के बाद जारी किए हैं।

मेजर आदित्य के पिता ले. कर्नल करमवीर सिंह ने जम्मू-कश्मीर के शोपियां में फायरिंग के मामले में एफआईआर को चुनौती देते हुए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी। प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली पीठ ने शुक्रवार को सिंह के वकील ऐश्वर्य भाटी की दलीलें सुनीं। इसके बाद पीठ ने सोमवार को सुनवाई का फैसला किया था।

उल्लेखनीय है कि सेना की 10 गढ़वाल यूनिट के मेजर कुमार के खिलाफ रणबीर पीनल कोड के तहत हत्या की धारा (302) और हत्या के प्रयास (307) का मामला दर्ज किया गया है। शोपियां के गनोवपोरा गांव में पत्थरबाज भीड़ पर फायरिंग के दौरान दो नागरिकों की मौत हो गई थी। इसके बाद मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती सईद ने मामले की जांच के आदेश दिए थे और राज्य की पुलिस ने सेना के अफसरों के खिलाफ एफआइआर दर्ज की थी।

इसके खिलाफ याचिका दायर करते हुए मेजर के पिता ने अपनी याचिका में कहा कि 10 गढ़वाल राइफल्स में तैनात उनके बेटे मेजर आदित्य कुमार का नाम गलत और मनमाने ढंग से एफआइआर में दर्ज किया गया है। यह घटना अफस्पा (एएफएसपीए) के तहत आने वाले इलाके में हुई थी। आतंकी गतिविधियों में लिप्त एक हिंसक भीड़ ने सेना के काफिले पर हमला कर दिया था। इसलिए वह अपनी सेना की ड्यूटी का निर्वाह कर रहा था। यह हिंसक भीड़ बेवजह पत्थर मार-मारकर सेना के वाहनों को क्षतिग्रस्त कर रही थी।

अधिवक्ता ऐश्वर्या भाटी के जरिये दायर अपील में कहा गया कि लेफ्टिनेंट कर्नल करमवीर सिंह के बेटे का मकसद सैन्य अफसरों की रक्षा करना, संपत्ति की रक्षा करना था। साथ ही वह आग लगाने की कोशिश कर रही हिंसक और बर्बर भीड़ को खदेड़ना चाहते थे। बेकाबू भीड़ से पहले वहां से हटने की अपील की गई। फिर उनसे सेना के कार्य में बाधा नहीं डालने और सरकारी संपत्ति को नष्ट नही करने की भी अपील की गई। लेकिन जब हालात नियंत्रण से बाहर हो गए तब भीड़ को वहां से हट जाने की चेतावनी दी गई।

Comments
1
Your View
Name
Email
Description
National
बॉलीवुड को चपेट में लेने वाले "मी टू" अभियान के तहत संगीतकार अनु मलिक पर द...
National
: CBI ने स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के खिलाफ FIR दर्ज की है. सूत्रों का...
National
पेट्रोल और डीजल के दामों ने एक बार फिर आम आदमी को राहत दी है. रविवार को लगा...
National
शिमरोन हेटमायर के शतक (106) और किरोन पॉवेल की फिफ्टी (51) से वेस्टइंडीज ने ...


coppyright © 2018 News View Promoted by : SiddhTech IT Solutions
news hindi
Designing & Development by SWA